अब जल्द ही हिंदी समेत कई और देसी भाषाओं में भी बन सकेगी ईमेल आईडी

author image
10:01 pm 3 Aug, 2016

भारत में जल्द ही ईमेल एड्रेस हिंदी समेत अन्य देसी या क्षेत्रीय भाषाओं में लाने की तैयारी हो रही है। नरेन्द्र मोदी की सरकार ने आईटी कंपनियों से इस पर सुझाव मांगा है।

इस रिपोर्ट के मुताबिक, यदि भारत सरकार की योजना कामयाब रहती है तो इसके तहत अमेरिकी दिग्गज कंपनी गूगल, माइक्रोसॉफ्ट और रेडिफ जैसी अमरीकी टेक्नोलॉजी कंपनियां व्यक्तिगत पसंद के अनुसार देसी भाषा में ईमेल एड्रेस बनाने की सुविधा दे सकती हैं।

Email id

पिछले महीने बुलाई गई एक बैठक में सरकार ने ईमेल सर्विस प्रोवाइडर्स से कहा कि हिन्दी से शुरुआत करते हुए ईमेल एड्रेस को स्थानीय भाषाओं में मुहैया कराया जाए।

इसके पीछे का उद्देश्य जैसा की देश में इंटरनेट अर्ध-शहरी और ग्रामीण इलाकों तक पहुंचना शुरू हो गया है, तो यह सुनिश्चित करना चाहिए कि पर्याप्त स्थानीय भाषाओं से जुड़ा कंटेंट भी हो।


Modi cabinet

इलेक्ट्रॉनिक्स ऐंड आईटी मिनिस्ट्री में जॉइंट सेक्रटरी राजीव बंसल के अनुसार, इस पहल को ‘भारत नेट प्रॉजेक्ट’ के तहत आगे ले जाया जाएगा, जिसमें हाई स्पीड इंटरनेट के जरिए 2,50,000 ग्राम पंचायतों को जोड़ने की योजना है। राजीव बंसल ने कहा:

“अगले कुछ साल में 2,50,000 ग्राम पंचायतों को भारत नेट प्रॉजेक्ट से जोड़ा जाएगा, लेकिन जब लोगों तक इंटरनेट पहुंचेगा, तो वे क्या करेंगे? देश में कितने लोग वास्तव में अंग्रेजी पढ़ या टाइप कर सकते हैं?”

बंसल ने स्पष्ट किया कि बुनियादी इंटरनेट सेवाओं का उपयोग करने के लिए ईमेल आईडी की जरूरत होती है, लेकिन भारत में हर कोई अग्रेजी पढ़ या लिख नहीं सकता। ऐसी स्थिति में अंग्रेजी के अलावा हिंदी और बाकी भारतीय भाषाओं में भी ईमेल आईडी की सुविधा मिले तो आईटी सेवाओं का देश में और विस्तार होगा।

Rural areas

इस तरह से सरकार ने गूगल, माइक्रोसॉफ्ट और रीडिफ जैसी जानी-मानी कंपनियों से संपर्क साधा और एकमत राय देते हुए कहा कि देवनागरी जैसे बाकी भाषाओं की लिपि में ईमेल एड्रेस मुमकिन है।

Discussions



TY News