पुणे की बच्ची के डूडल से बाल दिवस मना रहा गूगल

5:04 pm 14 Nov, 2016


गूगल ने आज 14 नवंबर को बाल दिवस के मौके पर अपने सर्च इंजन होमपेज पर पुणे की 11 वर्षीय बच्ची की ड्राइंग को डूडल के रूप में लगाया है।

गूगल इंडिया के होम पेज पर बाल दिवस के मौके पर दिख रहे इस डूडल को पुणे की 11 साल की अन्विता प्रशांत तेलांग ने बनाया है। पिछले हफ्ते ही अन्विता को ‘डूडल फॉर गूगल’ कॉन्टेस्ट की विजेता घोषित किया गया था।

गूलल प्रत्येक वर्ष भारत में अपनी वार्षिक प्रतियोगिता के तहत देशभर के बच्चों को अपना हुनर दिखाने का आमंत्रण देता है और इस प्रतियोगिता के तहत सभी बच्चे अपनी कला प्रविष्टियां गूगल को भेजते हैं। प्रतियोगिता में जीती हुई प्रविष्टि को डूडल के जरिए बाल दिवस के अवसर दर्शाया जाता है।

अन्विता पुणे के बालेवाड़ी के विबग्योर हाईस्कूल की छात्रा हैं। उन्होंने अपने डूडल के जरिए संदेश दिया है कि आज की तनाव भरी जिंदगी में अकसर छोटी-छोटी चीजों में ही बड़ी खुशियां छिपी होती हैं। इसलिए मैं हर किसी को यह सिखाना चाहूंगी कि जिंदगी के हर लम्हे का मजा उठाने के लिए वक्त निकालें और अपने आसपास मौजूद छोटी-छोटी चीजों का महत्व समझें।

google doodle

अन्विता ने अपने गूगल डूडल की थीम ‘एंजॉय एवरी मूवमेंट’ के तहत इसमें जीवन के तीन मौलिक तत्वों जमीन, पानी और हवा को दिखाया है। इस डूडल में पतंग, गुब्बारे, समुद्रों, पेड़, पक्षियों और समुद्री जीवन जैसी जीवंत चीजें देखी जा सकती हैं।

इस प्रतियोगिता के लिए देश के 50 शहरों से प्रविष्टियां प्राप्त हुई थीं। अन्विता का बनाया यह डूडल 24 घंटे तक गूगल के होम पेज पर रहेगा।

Discussions