एक महीने बाद मौत के मुंह से बाहर आया यह जांबाज ‘चीता’, शरीर पर झेली थी 9 गोलियां

author image
3:37 pm 20 Mar, 2017


कश्मीर में लश्कर के आतंकियों को ढ़ेर करने वाले सीआरपीएफ की 45वीं बटालियन के कमांडेंट चेतन कुमार चीता की हालत में लगातार सुधार हो रहा है। अब वह आईसीयू से बाहर आ चुके हैं।

पूरे एक महीने बाद होश में आने वाले चेतन चीता को एम्स ट्रॉमा सेंटर के वॉर्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। उनकी हालत अभी स्थिर बताई जा रही है।

चेतन चीता का इलाज कर रहे डॉक्टर ने बताया है कि अब वह खुद से सांस ले पा रहे हैं। अभी फिलहाल कोई खतरे की बात नहीं है। चीता से कुछ पूछे जाने पर वह प्रतिक्रिया भी दे रहे हैं।

chetan

intoday


आपको बता  दें कि 14 फरवरी को बांदीपुरा में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में चीता बुरी तरह से घायल हो गए थे। इलाके में आतंकियों की मौजूदगी की जानकारी मिलने के बाद सेना ने सर्च अभियान चलाया था। इस अभियान का नेतृत्व कर रहे चीता जब आतंकियों को धर दबोचने के लिए आगे बड़े तो आतंकियों ने उनपर कई राउंड फायरिंग करना शुरू कर दिया।

इस गोलीबारी में उन्हें 9 गोलियां लगी। चीता ने घायल होने के बावजूद लश्कर के खूंखार आतंकी अबू हारिस को मौत के घाट उतार दिया। इस मुठभेड़ में चार जवान शहीद हुए थे और कमांडिंग ऑफिसर चेतन कुमार चीता बुरी तरह घायल हो गए थे।

Popular on the Web

Discussions



  • Viral Stories

TY News