ये 16 तस्वीरें उस कड़वे सच से सामना कराती हैं, जिसे हम और आप अनदेखा कर रहे हैं।

author image
10:48 am 28 Dec, 2015

हम खुद को मॉडर्न तो कहने लगे हैं, लेकिन ऐसा बनने और दिखने के चक्कर में जो दुर्गति हुई है, वह सचेत करने वाली है। इंसान अपने ही बनाए हुए चक्रव्यूह में फंसता चला जा रहा है। कुछ चीज़ें अच्छी हैं, तो उनकी अति उतनी ही घातक। ऐसे ही कुछ व्यंग्य चित्र आपको सचेत होने के संकेत दे रहे हैं। इस बारे में अब सोचने की जरूरत है। मुझे पता है आप इन तस्वीरों को देखेंगे। शायद इन्हें पसंद भी करेंगे, लेकिन फिर क्या! वहीँ ढ़ाक के तीन पात। बस उम्मीद कर सकती हूं बदलाव की एक पहल हो, क्योंकि कहते हैं न, उम्मीद पर दुनिया कायम है।

1. अगर आप इस ग़लतफहमी में है कि आप सिगरेट पी रहे है तो आप से बड़ा मूर्ख और कोई नहीं, क्योंकि असल में आप सिगरेट नहीं, सिगरेट आपको पी रहा है। यह आपको धीरे-धीरे अंदर से खोखला बना रहा है।

Satirical Illustration

 

2. अति-आधुनिकरण की वजह से प्रकृति ख़त्म होने की कगार पर है। हम अपनी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए अपने आस-पास के प्राकृतिक वातावरण को नुकसान पंहुचा रहे हैं। इसे अगर रोका नहीं गया, तो संसार का विनाश तय है।

Satirical illustrations

 

3. सोशल मीडिया मानो ड्रग्स की तरह हो गया है, जिसके बिना कुछ लोग रह ही नहीं सकते। यह इंसानों पर इस कदर हावी है कि इसका प्रभाव उनकी जीवन-शैली पर पड़ने लगा है जो बहुत घातक है।

Satirical Illustration

 

4. किसी ज़रूरतमंद को मदद करने की बजाय लोग सोशल मीडिया पर पहले उसका अपडेट देते हैं। इतने में चाहे सामने वाले की जान क्यों न चली जाए। फोटो ली जाएगी, वीडियो तक बनाई जाएगी, लेकिन मदद के लिए शायद ही कोई हाथ आगे आए।

Satirical Illustrations

5. एक चेहरे पर कई चेहरे। लोग पीठ पीछे बुराई करते हैं और सामने चासनी की तरह होने का दिखावा करते है। कहते है न, मुंह में राम बगल में छुरी।

Satirical illustrations

6. यहां हर इंसान किसी न किसी चीज़ को लेकर परेशान है। चाहे वह अमीर हो या गरीब, कोई संतुष्ट नहीं है।

Satirical illustrations

 

7. कहते हैं समय ही सबसे बलवान है। यह हमेशा एक सा नहीं रहता। समय किसी का इंतज़ार नहीं करता। आपने देर की तो सब कुछ आपके हाथ से निकल सकता है।

Satirical Illustrations

8. लोगो से मिलने का वक़्त नहीं, फिर भी कहे जा रहे हम ‘सोशल’ हैं। यहां लोग अब सोशल लाइफ से ज़्यादा सोशल मीडिया को तवज्जो देने लगे हैं। सोशल मीडिया का इस्तेमाल करना गलत नहीं है, पर उसका गुलाम बनकर रहना, कहां की समझदारी है।

Satirical Illustrations

 

9. आजकल गैजेट्स हमारी ज़िन्दगी पर हावी हो गए है। ढूंढो चार्जिंग पॉइंट!

Satirical Illustrations


 

10. आजकल लोग बाहरी दिखावे को ज़्यादा तवज्जो देते हैं, न की इंसान के काम को। बाहरी दिखावा इतना हो गया है कि काबिलियत को कोई पूछता ही नहीं।

Satirical Illustrations

 

11. हमारे पैदा होते ही हमें किसी न किसी जाति, धर्म के बंधन में बांध दिया जाता है। तुम इस जाति के हो। तो तुम उस धर्म के और फिर हम उसका बचाव करते हैं जिसे हमने खुद चुना ही नहीं है। तब इंसानियत का धर्म कहीं न कहीं हार जाता है।

Satirical Illustrations

 

12. यहां हर चेहरा न जाने कितने चेहरे छिपाए बैठा है। अंदाजा लगाना मुश्किल है कि किसके अंदर क्या चल रहा है।

Satirical Illustrations

 

13. किताबी ज्ञान तो जैसे विलुप्त ही होता जा रहा है। आजकल लोग किताबों से, अपने पढ़े ज्ञान से ज़्यादा, इंटरनेट पर भरोसा करने लगे है। मोबाइल पर ही ज्ञान खोजते हैं। लाइब्रेरी जाना तो जैसे कौन से ज़माने की बात हो गई है। सब ‘किंडल’ रानी और ‘गूगल’ देवता के चरणों में नतमस्तक हैं।

Satirical Illustrations

 

14. आपके फ़ोन आपके रिश्ते को ख़त्म करने की कगार पर ला सकते है। संभल जाइए। इतना भी ‘सोशल मीडिया से सोशल’ मत हो जाइए कि ‘सोशल लाइफ’ ही भूल जाए।

Satirical Illustrations

 

15. आजकल छोटे से छोटा बच्चा भी टेबलेट, मोबाइल कैसे इस्तेमाल करते है जानता है। इनका आदी हो गया है। बाहर जाकर खेलना उन्हें पसंद नही। बस वीडियो गेम में ही अपनी दुनिया बसा रखी है। नई पीढ़ी के लिए शायद ख़ुशी के मायने बदल गए हैं।

Satirical Illustrations

 

16. आपको ये जानने और समझने की ज़रूरत है कि वर्चुअल वर्ल्ड आपके दिमाग पर हावी हो रहा है। अपना भी दिमाग लगा लो। हर चीज़ को ‘सर्च’ करने की ज़रूरत नहीं है।

Satirical Illustrations

स्रोत: Arteide

Discussions



TY News