इस छोटे से गांव के हर घर में है एक सैनिक, रक्षा अकादमी की स्थापना होगी

4:02 pm November 04, 2016


भारत वीर सपूतों की भूमि रही है। आज हम देश के एक ऐसे गांव के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसने हमेशा से ही वीर सपूतों को जन्म दिया है। इतिहास चाहे द्वितीय विश्वयुद्ध का हो, 1962 में चीन-भारत युद्ध , 1965 में भारत-पाक युद्ध या फिर 1971 में बंगलादेश मुक्ति संग्राम, इस गांव की भूमिका महत्वपूर्ण रही है।

अमरावती से 150 किलोमीटर दूर पश्चिम आंध्र प्रदेश के गोदावरी ज़िले की गोद में बसे एक छोटे से गांव माधवरम को हर घर से कम-से-कम एक सदस्य के भारतीय सेना में अपनी सेवाएं प्रदान करने के लिए जाना जाता है।

यहां के जवान खुद को अपने नाम से पुकारे जाने की जगह सेना में अपने पद के नाम के बुलाया जाना पसंद करते हैं।

कहते हैं माधवरम का हर घर युद्ध और वीरता की तमाम लोक कथाओं को समेटे हुए है। यहां के हर घर की दीवारें युद्ध में जीते गए पदको से सम्मानित है। यही नहीं, गांव में नौकरी से रिटायर लोग खुद को अपने नाम से बुलाए जाने की जगह सेना में अपने पद के नाम के बुलाया जाना पसंद करते हैं। और तो और यहां की स्थानीय औरतें भी एक सैनिक से शादी करना अधिक पसंद करती हैं और बच्चों के नाम कर्नल, मेजर और कैप्टन रखे जाते हैं।

इस गांव के शूरवीरों का शानदार रहा है इतिहास

यह गांव 17वीं शताब्दी के उड़ीसा और दक्षिणी पठार के गजपति राजवंश के राजा पुष्पति माधव वर्मा ब्रह्मा का रक्षा ठिकाना था। इस राजा के ही नाम पर इस गांव का नाम माधवरम पड़ा। राजा ने माधवरम से 6 किमी दूर आरुगोलु गांव में मोर्चेबंदी के लिए एक किला भी बनवाया था, जो आज भी वहां मौजूद है।

thebetterindia

माधवरम के एक सेवानिवृत्त सैनिक thebetterindia

साम्राज्य की सुरक्षा को मजबूत करने के लिए उड़ीसा और उत्तरी आंध्र से सैनिकों को लाकर माधवरम और आरगोलु के किले में बसाया गया, जिसके बदले में उन्हें उपहारस्वरूप जमीनें दी गईं। इन सैनिकों और उनके वंशजों ने क्षेत्र में कई शासकों के लिए युद्ध लड़े, जैसे कि – बोबिली, पीतापुराम, पलनाडु, वारंगल और काकतीय। बाद में औपनिवेशिक शासन के दौरान इस गांव के 90 सैनिकों ने ब्रिटिश साम्राज्य की तरफ से युद्ध लड़ा, जो आंकड़ा दूसरे विश्वयुद्ध में 1110 तक पहुंच गया था।

माधवरम ने सैनिकों के बलिदान और सेवा की स्मृति में अमर जवान ज्योति की तर्ज़ पर कराया शहीद स्मारक का निर्माण।


माधवरम के लोगों ने यहां के सैनिकों के बलिदान और सेवा की स्मृति में नई दिल्ली अमर जवान ज्योति की तर्ज़ पर एक शहीद स्मारक का निर्माण कराया है, जो यहां के निवासियों को यह याद दिलाता रहता है कि उनकी रगों में शूरवीरों का खून बहता है। यह युवाओं को भारतीय सशस्त्र सेना में जाकर इस गांव की शान बनाए रखने के लिए प्रेरित करता रहता है।

theweek

माधवरम शहीद स्मारक theweek

इस गांव के साथ एक रोचक धार्मिक मान्यता भी जुड़ी हुई है। दरअसल गांव के प्रवेशद्वार पर पोलेरम्मा मंदिर है। आस्था है कि पोलेरम्मा देवी रणभूमि में जवानों की रक्षा करती हैं।

माधवरम में जल्दी ही रखी जाएगी एक सैन्य प्रशिक्षण केंद्र की आधारशिला

सैन्य परम्परा और उसकी देश सेवा धर्म को बखूबी निभाने वाला यह गांव माधवरम आख़िर कब तक लोगों की नज़रों से छुप सकता था। जब रक्षा मंत्रालय को सैन्यसेवा में इस गांव के अतुलनीय योगदान के बारे में पता चला, तब उन्होंने यह फ़ैसला लिया कि इस गांव को विकसित किया जाएगा। माना जा रहा है कि जल्दी ही रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, माधवरम में एक सैन्य प्रशिक्षण केंद्र की आधारशिला रखेंगे। इसके अंतर्गत भारत डायनामिक्स लिमिटेड (BDL) के सहयोग से एक सुसज्जित रक्षा अकादमी की स्थापना की जाएगी।

साभार: theweek

Facebook Discussions